0

देश की आजादी में जिन्ना का भी उतना ही हाथ था जितना नेहरू और गांधी का : एसपी सांसद प्रवीण निषाद

           गोरखपुर: अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में मोहम्‍मद अली जिन्‍ना की तस्‍वीर पर राजनीति खत्‍म होती नजर नहीं आ रही है. प्रदेश के मंत्री स्‍वामी प्रसाद मौर्या द्वारा पाकिस्‍तान के संस्‍थापक मोहम्‍मद अली जिन्‍ना को महापुरुष बताने के बाद विवाद बढ़ गया था. अब गोरखपुर से एसपी सांसद प्रवीण निषाद ने भी जिन्‍ना की तुलना नेहरू और गांधी से कर दी है. उन्‍होंने कहा है कि जिस तरह से भारत को आजाद कराने में नेहरू और गांधी का योगदान रहा है, वैसे ही जिन्‍ना का भी देश की आजादी में उतना ही योगदान रहा है.

जिन्‍ना के नाम पर बीजेपी राजनीति कर रही है
गोरखपुर से सपा सांसद प्रवीण निषाद ने कहा कि जिन्‍ना के नाम पर बीजेपी जो राजनीति कर रही है. उसकी जितनी भी निंदा की जाए वो कम है. वो यहीं चुप नहीं हुए. उन्‍होंने कहा कि देश को आजाद कराने में जितना योगदान जवाहर लाल नेहरू और महात्‍मा गांधी का रहा है, उसी तरह मोहम्‍मद अली जिन्‍ना का भी रहा है. निषाद ने कहा कि एक तरह से देखा जाए तो देश का वर्गीकरण हो गया है. जाति और धर्म के नाम पर आप देशभक्‍त कहला रहे हैं. बीजेपी पर निशाना साधते हुए उन्‍होंने कहा कि धर्म के नाम पर ये लोग बंटवारे कराना चाहते हैं.

2019 के चुनाव को लेकर एक वर्गीकरण करना चाहती है बीजेपी
गोरखपुर सांसद ने कहा कि हम भी इस देश के मालिक हैं. हम भी इस देश के नागरिक हैं. मुस्लिम भाई भी इस देश के असली नागरिक हैं. इस देश के निवासी हैं. जितना योगदान हिन्‍दू धर्म के लोगों का इस भारत देश का आजाद कराने में रहा है, उतना ही योगदान मुस्लिम समुदाय के लोगों का भी रहा है. अशफाकउल्‍लाह खान भी शहीद हुए भगत सिंह के साथ थे. उन्‍होंने कहा कि बीजेपी वर्गीकरण के अनुसार सामुदायिक दंगे कराना चाहती है. 2019 के चुनाव को लेकर एक वर्गीकरण करना चाहती है, जिससे उसको फायदा हो और हम ये नहीं होने देंगे.

जिन्ना वाले बयान की वजह से मौर्य पर भड़के बीजेपी नेता, कहा- पाकिस्तान चले जाओ

एसपी के टिकट पर उप-चुनाव लड़कर निषाद ने हासिल की थी जीत
निषाद पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष डा. संजय निषाद के बेटे और एसपी सांसद प्रवीण निषाद ने योगी आदित्‍यनाथ के मुख्‍यमंत्री बनने के बाद खाली हुई सीट पर एसपी के टिकट पर उप-चुनाव लड़कर जीत हासिल की और बड़ा उलटफेर कर राजनीतिक विश्‍लेषकों को सोचने पर मजबूर कर दिया था.

newsairs

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *